You are here
Home > People > अर्चना तोमर : रूढ़िवादी समाज से निकल कर एक सफल बिज़नेस वुमन बनने तक का सफर

अर्चना तोमर : रूढ़िवादी समाज से निकल कर एक सफल बिज़नेस वुमन बनने तक का सफर

अर्चना तोमर का जन्म उस समाज में हुआ था जहाँ महज कुछ साल पहले तक बेटियों को पैदा पहले ही कोख में मार दिया जाता था और अगर गलती से बेटी पैदा हो भी गयी तो उसे बचपन से ही घर के बेटों से कमतर मानकर ही परवरिश की जाती थी | बेटियों को यहीं सिखाया जाता था कि उन्हें घूंघट में रह कर घर के काम और पति की सेवा करनी है, एक औरत की भी इच्छाएँ होती हैं, वो भी सफलता की बुलंदियों को छू सकती है यह बात स्वीकार्य नहीं थी |  रूड़की के जाट परिवार में पैदा हुयी अर्चना की, शुरुवाती पढाई रूरकी से हुयी और उन्होंने रूरकी से ही  से नागरिक सास्त्र

में पोस्ट ग्रेजुएशन किया | अर्चना के घरवाले चाहते थे कि वो बैंक में नौकरी करें और वो खुद भी पीएचडी करना चाहती थीं | लेकिन नियति को कुछ और ही मंजूर था |

अर्चना बताती हैं कि उन्हें बचपन से ही मेकअप और हेयरस्टीलिंग में रूचि होनी लगी थी, लेकिन यह वो करियर ऑप्शन था जो समाज को इतना आसानी से मंजूर नहीं था, फिर भी अर्चना ने अपने माता पिता को दिल्ली जाके मेक अप और हेयर स्टाइलिंग का कोर्स करने के लिये मना लिया | अर्चना ने विद्या टिकारी अकादमी से मेक अप में और जावेद हबीब से हेयरस्टीलिंग में डिप्लोमा हासिल किया | डिप्लोमा लेने के बाद अर्चना दिल्ली में ही जॉब करने करने लगी लेकिन उनके मन के किसी कोने में  अपना बिज़नेस शुरू करने की इच्छा थी ही |

इस बीच अर्चना की शादी मुजफ्फरनगर एक रूढ़िवादी परिवार में हो गयी, अर्चना के ससुरार वालों को उनका यह करियर बिलकुल नाग़वार गुजरा | लेकिन अर्चना ने हिम्मत नहीं हारी, अपने बड़ी बहन अरुणा और अपने चाचा जी के सहयोग से उन्होंने देहरादून के टर्नर रोड पे एक छोटा सा सैलून खोला | शुरुआती दिन इतने सुखद नहीं थे, कारीगरों की कमी थी तो ज्यादातर काम खुद ही करना पड़ता था | कई घंटों तक अर्चना काम करती थीं साथ ही साथ अपने बेटे की भी देखभाल करती थी और अर्चना ने अपनी दोनों जिम्मेदारियां बखूबी निभायीं |

आज अर्चना का दिल्ली रोड पर ड्रीम्स क्रिएशन नाम से  बहुत बड़ा सैलून है जिसमें 12 मेक अप आर्टिस्ट  और हेयर स्टाइलिस्ट  काम करते हैं, उनकी मेहनत आज अन्य लोगो के रोजगार की भी साधन बनी | अर्चना की मेहनत को देखकर अब उनके ससुराल पक्ष के लोग भी अर्चना  के मुरीद हो चुके हैं | अर्चना अपनी सफलता का श्रेय अपनी बहन और अपने चाचा को देती हैं, जिन्होंने अर्चना मदद की और उनके हौसलों को पस्त नहीं होने दिया |

अर्चना अब बहुत सी लड़कियों को मेक अप की ट्रेनिंग देती हैं, ताकि वो भी आत्म निर्भर बन सकें और अपनी जिंदगी अपने अनुसार जी सकें , साथ ही साथ उनका ड्रीम्स क्रिएशन की दो नयी शाखाएँ खोलने का भी प्लान है | र्चना को उनके मेहनत और लगन के लिये हाल में ही उत्तराखंड यंग अचीवर्स अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है |

Comments

Comments

Similar Articles

Top